Menu

फेफड़ा क्या है

लंग्स (lungs) हमारे शरीर के बाकी अंगो की तरह बहुत ही महत्वपूर्ण है,  लंग्स का कार्य हमारे  ह्रदय को ऑक्सीजन  पहुंचना तथा कार्बनडाइऑक्साइड को बाहर निकलता है और ह्रदय को कार्य करने में सहायता करता है, प्रत्येक लंग्स पसलियों के बीच स्थित अंगों में से प्रत्येक, अंग ब्रांकाई के साथ लोचदार थैली से युक्त होता है,जो हवा खींचता है, ताकि ऑक्सीजन रक्त में जा सके और कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर निकाल सके।

लंग्स के कार्य- फेफड़ों का मुख्य कार्य श्वसन (respiration) नामक गैस की प्रक्रिया है। श्वसन में, आने वाली हवा से ऑक्सीजन रक्त में प्रवेश करती है, और चयापचय से अपशिष्ट गैस कार्बन डाइऑक्साइड, रक्त को छोड़ देती है। फेफड़े के कार्य का अर्थ है कि गैसों का आदान-प्रदान करने तथा  फेफड़ों की कार्य करने की क्षमता होती है।

लंग्स के मुख्य भाग- alveoli(खडेरा) ,bronchi(श्वसनी), diaphragm(झिल्ली)

Alveoli (खडेरा) – एल्वियोली छोटे गुब्बारे के आकार की बनी होती हैं और श्वसन प्रणाली में सबसे छोटा मार्ग है। एल्वियोली केवल एक कोशिका जो मोटी होती है, जो केशिकाओं नामक एल्वियोली और रक्त वाहिकाओं के बीच ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड के अपेक्षाकृत आसान मार्ग की अनुमति देती है। एल्वियोली श्वसन प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जिसका कार्य रक्त प्रवाह से ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड अणुओं का आदान-प्रदान करना है। ये छोटे, गुब्बारे के आकार के हवाई थैली सांस के पेड़ के बहुत छोर पर बैठते हैं और पूरे फेफड़ों में गुच्छों में होते हैं।

Bronchi(श्वसनी) – श्वासनली, या विंडपाइप, मुंह से एक मार्ग प्रदान करके फेफड़ों को हवा की आपूर्ति करने में मदद करता है। यह लगभग 4 से 5 इंच लंबा और 1 इंच मोटा  होता है, फेफड़ों में जाने का मुख्य मार्ग है। जब कोई अपनी नाक या मुंह से सांस लेता है, तो वायु स्वरयंत्र में पहुंच जाती है। अगला चरण ट्रेकिआ के माध्यम से होता है, जो हवा को बाएं और दाएं ब्रोन्कस तक पहुंचाता है। ब्रोंची फेफड़े के ऊतकों के करीब पहुंच जाती है और फिर ब्रोंचीओल्स के रूप में छोटी हो जाती है।

Diaphragm(झिल्ली) – डायाफ्राम श्वसन में प्रयुक्त प्राथमिक मांसपेशी है, जो सांस लेने की प्रक्रिया है। यह फूल के आकार की मांसपेशी फेफड़ों और हृदय के ठीक नीचे स्थित है। जब आप अंदर और बाहर सांस लेते हैं तो यह लगातार सिकुड़ता है, डायाफ्राम एक पतली कंकाल की मांसपेशी है जो छाती के आधार पर रहता डायाफ्राम पेट के दबाव को बढ़ाता है जिससे शरीर को उल्टी, मूत्र और मल से छुटकारा मिलता है। यह एसिड  को रोकने के लिए पाचनतंत्र के जठर  पर दबाव भी डालता है।

डायाफ्राम पेट के दबाव को बढ़ाता है जिससे शरीर को उल्टी, मूत्र और मल से छुटकारा मिलता है। यह एसिड  को रोकने के लिए पाचनतंत्र के जठर  पर दबाव भी डालता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *